33 डिग्री पर, दिल्ली पिछले 17 सालों में फरवरी में सबसे गर्म दिन रहा

33 डिग्री पर, दिल्ली पिछले 17 सालों में फरवरी में सबसे गर्म दिन रहा

एक शीर्ष मौसम वैज्ञानिक ने आने वाले दिनों में दिल्ली में और भी गर्म दिनों की चेतावनी दी है। (फ़ाइल)

नयी दिल्ली:

ऐसा प्रतीत होता है कि दिल्ली ने वसंत को पूरी तरह से छोड़ दिया है, कुछ ही हफ्तों में कड़ाके की ठंड से गर्म दिनों में जा रही है, क्योंकि इसने आज 17 वर्षों में सबसे गर्म फरवरी का दिन देखा। मौसम विभाग के आंकड़ों से पता चलता है कि 2006 के बाद से इस महीने का अधिकतम तापमान 33.6 डिग्री है।

आज अधिकतम तापमान सामान्य से नौ डिग्री अधिक था।

पिछले 55 सालों में आज तीसरा सबसे गर्म फरवरी भी है। 20 फरवरी 1969 के बाद से तीसरा सबसे गर्म है, भारत मौसम विज्ञान विभाग के आंकड़ों से पता चलता है।

भारत मौसम विज्ञान विभाग (IMD) के क्षेत्रीय पूर्वानुमान केंद्र के प्रमुख कुलदीप श्रीवास्तव ने कहा कि मजबूत पश्चिमी विक्षोभ की कमी दिल्ली और उत्तर-पश्चिम भारत के अन्य हिस्सों में शुरुआती गर्मी का प्राथमिक कारण है।

राष्ट्रीय राजधानी में पिछले कुछ दिनों से तापमान में लगातार वृद्धि देखी जा रही है। भारत मौसम विज्ञान विभाग ने कहा कि रविवार को शहर का अधिकतम तापमान 31.5 डिग्री सेल्सियस दर्ज किया गया, जो मौसम के औसत से सात डिग्री अधिक है और दो साल में इस महीने का सबसे अधिक तापमान है।

इस साल उम्मीद से पहले गर्मी की शुरुआत ने गेहूं की फसल पर मौसम के प्रभाव और पहाड़ों में तेजी से बर्फ पिघलने को लेकर चिंता बढ़ा दी है।

एक शीर्ष मौसम वैज्ञानिक ने आने वाले दिनों में दिल्ली में और भी गर्म दिनों की चेतावनी दी है। आईएमडी के वरिष्ठ वैज्ञानिक नरेश कुमार ने एनडीटीवी को बताया कि आने वाले दिनों में राष्ट्रीय राजधानी में तापमान 33 डिग्री सेल्सियस तक बढ़ने की संभावना है, मार्च की शुरुआत में होली के वसंत त्योहार से बहुत पहले।

मौसम विभाग ने उत्तर भारत में सक्रिय पश्चिमी विक्षोभ की अनुपस्थिति और दक्षिण भारत में किसी भी प्रमुख प्रणाली के कारण वर्षा की कमी को असामान्य गर्मी के लिए जिम्मेदार ठहराया था।

पूरे देश में केवल 8.9 मिमी बारिश दर्ज की गई थी, जो कि 30.4 मिमी की लंबी अवधि के औसत से 71 प्रतिशत कम थी।

दिन का विशेष रुप से प्रदर्शित वीडियो

मेटा ने इंस्टाग्राम, फेसबुक के लिए पेड ब्लू बैज लॉन्च किया इसका क्या मतलब है




Source by [author_name]

Leave a Comment