दिल्ली: जी-20 सम्मेलन के लिए रेफरल अस्पताल बना एम्स, सौंदर्यीकरण से सुधरेंगी सुविधाएं


अखिल भारतीय आयुर्विज्ञान संस्थान दिल्ली

अखिल भारतीय आयुर्विज्ञान संस्थान दिल्ली

अखिल भारतीय आयुर्विज्ञान संस्थान (एम्स) दिल्ली देश में होने वाली जी-20 बैठक में स्वास्थ्य सुविधाएं मुहैया कराने के लिए खुद को तैयार कर रहा है। एम्स जी-20 के लिए रेफरल अस्पताल के रूप में काम करेगा। एम्स में सौंदर्यीकरण सहित सुविधाओं के विस्तार को लेकर मंगलवार को एम्स में एनडीएमसी के सचिव के साथ अस्पताल के निदेशक की उच्च स्तरीय बैठक हुई. बैठक में कई मुद्दों पर चर्चा हुई। साथ ही आसपास के क्षेत्रों में साफ-सफाई के लिए कार्य किया जाएगा।

बैठक को लेकर एम्स के वरिष्ठ चिकित्सक ने कहा कि एम्स को रेफरल अस्पताल के रूप में कार्य करने की जिम्मेदारी दी गई है. बैठक में दुनिया भर से प्रतिनिधिमंडल आ रहे हैं। उन्हें बेहतर स्वास्थ्य सुविधाएं उपलब्ध कराने के लिए सेवाओं को उन्नत किया जा रहा है। इसको लेकर चिकित्सकों व अन्य स्वास्थ्य कर्मियों को प्रशिक्षण भी दिया जाएगा। जरूरत पड़ने पर अन्य सुविधाओं का भी विस्तार किया जाएगा।

परिसर में सौंदर्यीकरण किया जाएगा

अधिकारी ने बताया कि जी20 बैठक को देखते हुए एम्स परिसर में सौंदर्यीकरण का काम किया जाएगा. साफ-सफाई के अलावा आसपास के पार्क में हरियाली भी विकसित की जाएगी। इसको लेकर एनडीएमसी को जिम्मेदारी सौंपी गई है। एनडीएमसी पार्कों को स्वच्छ और सुंदर बनाने के अलावा शौचालयों की संख्या भी बढ़ाएगी। साथ ही अन्य महत्वपूर्ण कार्य करेंगे।

तीमारदारों के लिए सूचना केंद्र बनाया जाएगा

एम्स में इलाज के लिए आने वाले मरीजों की जानकारी देने के लिए एम्स के गेट के पास सूचना केंद्र स्थापित किए जा रहे हैं। इन केंद्रों से मरीज की पूरी जानकारी मिल सकेगी। साथ ही नए मरीजों को बताया जाएगा कि उन्हें इलाज के लिए कहां जाना है। अभी तक मरीजों को इस सुविधा के लिए कमरा नंबर 12 में जाना पड़ता था। अधिकारी ने बताया कि केंद्रों की संख्या बढ़ने से मरीजों को गेट के पास ही पता चल जाएगा कि उन्हें किस केंद्र या ओपीडी में जाना है.

अभी तक देखा गया है कि मरीज पुरानी रेफर पर्ची होने के बाद भी भटकते रहते हैं। केंद्र में पर्ची देखने के बाद उन्हें उक्त ओपीडी या केंद्र पर भेजा जाएगा। भर्ती मरीज की जानकारी लेने के साथ ही उसके वार्ड व अन्य की जानकारी तीमारदार को दी जाएगी।



Source link

Leave a Comment